આ બ્લોગમાં વર્તમાનપત્રો, મેગેઝિનો, વિકીપીડીયા,GK ની વેબસાઇટો, વગેરે માધ્યમોનો સંદર્ભ તરીકે ઉપયોગ કરવામા આવેલ છે જે માટે સૌનો હ્રદયપૂર્વક આભાર વ્યક્ત કરુ છુ.

Friday, 27 November 2015

♥ दुनिया के 6 थिएटर जहां फिल्म देखने का अलग है अंदाज़ ♥



बड़े परदे पर फिल्म देखना हर किसी को पसंद होता है। बाहर जा कर थिएटर पर फिल्म देखने की तो बात ही कुछ और है। आराम से फिल्म एन्जॉय करने के लिए लोग महंगी से महंगी टिकट खरीदते हैं, लेकिन आपको यह जान कर हैरानी होगी कि दुनिया में ऐसे कई शानदार थिएटर है जहां बैठ कर फिल्म देखते हुए आपको बहुत खास महसूस होगा। यह थिएटर अपनी अनोखी बनावट और सुविधाओं के लिए मशहूर है।

हम आपको यहां कुछ ऐसे ही थिएटर्स के बारे में बता रहे हैं —




(1) ओलिंपिया थिएटर, ग्रीस

इस थिएटर में फिल्म देखने के लिए आलीशान बेड मिलता है। मतलब आप यहां आराम से लेट कर फिल्म देख सकते हैं। इस थिएटर को 1910 में बनवाया गया था। इसका डिज़ाइन आर्किटेक्ट स्टैवरोस क्रिस्टिडिस ने दिया है। वहीं, वर्तमान ओलिंपिया थिएटर को 1950 में डिजाइन किया गया था।




(2) हॉट ट्यूब सिनेमा, लंदन

इस थिएटर की खासियत यह कि यहां लोग कुर्सी पर बैठ कर नहीं बल्कि पानी से भरे हुए टब में बैठ कर दोस्तों के साथ एन्जॉय करते हुए फिल्म देखते हैं। यहां फिल्म देखते हुए ड्रिंक करने की भी इजाजत है।




(3) इलेक्ट्रिक सिनेमा, नॉटिंग हिल, लंदन

यह थिएटर देखने में काफी आलीशान लगता है। यहां की खासियत यह है कि इस थिएटर का इंटीरियर काफी खूबसूरत है। यहां मेहरून सोफे लगे हैं जो बहुत रॉयल लुक देते हैं। साथ ही सीट्स पर लैम्प भी लगे हैं।




(4) मूवी थिएटर इन पेरिस

इस थिएटर में पिक्चर देखते हुए आपको ऐसा लगेगा कि आप थिएटर में नहीं बल्कि किसी नदी के बीच में बैठ कर फिल्म देख रहे हैं। यह एक 3-D थिएटर है। इसे दुनिया के सबसे खास थिएटर्स का दर्ज मिला हुआ है। यहां बैठने के लिए नाव जैसा सिटिंग अरेंजमेंट है।




(5) न्यूपोर्ट अल्ट्रा सिनेमा, न्यूपोर्ट सिटी

यह एक कपल्स थिएटर है, जहां 80 सीट्स हैं। यह पूरा थिएटर 3- D है। यहां ज्यादातर कपल्स ही जाया करते हैं। इसलिए प्राइवेसी का पूरा ध्यान रखा जाता है।




(6) साई-फाई डाइन-इन थिएटर, ओरलैंडो, अमेरिका

इस स्पेशल थिएटर में आपको काफी मज़ा आएगा, क्योंकि यहां बैठने के लिए नार्मल सीट्स नहीं बल्कि कार के आकर की चेयर्स लगी हैं। जिन पर बैठ कर आप एन्जॉय कर सकते हैं। साथ ही इस थिएटर की एक और खासियत यह है कि आप सीट पर ही बैठ कर लंच या डिनर आर्डर कर सकते हैं।


इन थिएटर्स को देख कर आप भी उत्साहित हो गए होंगे। तो जीवन में कभी भी आपको मौका मिले तो इन थिएटर्स में फिल्म का मज़ा लेने जरूर जाइएगा।

Thursday, 26 November 2015

♥ सबसे तेज स्मार्ट फोन चार्जिग तकनीक ♥

♥ હાથ-પગ વડે સૌથી ઝડપી દોડવાનો વિશ્વવિક્રમ ♥


♥ મહાનુભાવો ♥

♥ એક વિચિત્ર ગામ ♥




♦ માંડવીના ધોકડા ગામે ૫૦૦ વર્ષથી કોઈ દૂધ વેચતું નથી.

♦ પૂર્વજોએ ઓલિયાને આપેલું વચન નિભાવવા કચ્છના
ઓલિયાએ મૂકેલી શરતો મુજબ ડબલ માળ કે છતવાળું મકાન નથી

♦ કોઈ શિકાર કરતું નથી કે ઢોલિયાનો ઉપયોગ પણ નથી કરતું.

♦ જેમના ઘેર ઢોર-ઢાંખર ન હોય તેમને મફત દૂધ અપાય છે.


માત્ર ગુજરાતમાં જ નહીં સમગ્ર ભારતમાં દૂધના ભાવમાં અવારનવાર ઓચિંતો ભાવવધારો થાય છે ને ત્યારે મોંઘવારીથી કંટાળેલા લોકો વધુ મૂંઝાઈ જાય છે, પણ ડેરીઓવાળા નફો રળવા ડીઝલ-પેટ્રોલની જેમ ભાવ વધારતા જ જાય છે ત્યારે કચ્છ જિલ્લાના માંડવી તાલુકામાં આવેલા ધોકડા ગામમાં ૨૫૦ જેટલા પશુઓ છે છતાં ૫૦૦ વર્ષથી અહીં કોઈ દૂધ વેચતું નથી એટલું જ નહીં જેમને ત્યાં ઢોર-ઢાંખર ન હોય એમને મફત દૂધ અપાય છે.

ધોકડા ગામના ઈતિહાસમાં ડોકિયું કરતા જાણવા મળે છે કે, આ ગામના પૂર્વજો સેદાણી નામના એક ઓલિયાના વચને બંધાયેલા છે તેથી ગામમાં કોઈ એમનું વચન તોડવાની હિંમત નથી કરતું, કારણ કે અગાઉ જ્યારે પણ કોઈએ પૂર્વજોએ આપેલું વચન તોડવાની કોશિશ કરી છે ત્યારે નુકસાન ભોગવવું પડયું છે.

૫૦૦ લોકોની વસતિ ધરાવતા આ ગામમાં ૨૫૦ જેટલાં પશુઓ છે છતાં દૂધ ન વેચવા ઉપરાંત બીજી પણ કેટલીક વિચિત્ર શરતો છે જેનું ગામ લોકો ચુસ્તપણે પાલન કરે છે. દૂધ ન વેચવા ઉપરાંત ગામની બીજી પણ ખાસિયતો છે જેમાં ડબલ માળનું કે છતવાળું મકાન કોઈ બનાવતું નથી. કોઇ કયારેય પશુઓનો શિકાર કરતું નથી. ઢોલિયાનો એટલે કે ખાટલાનો ઉપયોગ કોઈ કરતું નથી અને ઓલિયાના પરિવારનું પાલન પણ કર્યું. ગામના સરપંચ અને ગ્રામવાસીઓના જણાવ્યા પ્રમાણે વર્ષો પૂર્વે તેમના ગામની બાજુમાં સિંધથી આવેલા એક ઓલિયા ફકીરને લોકોએ ધોકડા, વાંઢ અને અન્ય ગામોના લોકોએ પોતાના ગામમાં રહેવા માટે વિનંતી કરેલી ને તે વખતે તેમણે કહેલું કે, 'મારી પાંચ શરતો સ્વીકારો તો ગામમાં રહું.' પરંતુ ગામ લોકોએ શરતો સ્વીકારી નહીં પરંતુ ધોકડા ગામના પૂર્વજોએ શરત સ્વીકારી તેથી તે ફકીર ધોકડા ગામમાં રોકાઈ ગયા.

આ વાતને આજે તો વર્ષો વીતી ગયા છે. હવે એ ઓલિયા પણ નથી છતાં એમને આપેલું વચન આજે પણ ધોકડા ગામના લોકો પાળે છે.

♥ કરોડોની સંપત્તિ ધરાવતું ભારતનું સૌથી પૈસાદાર ગામ - ધર્મજ ♥

♦ ગામમાં ૧૩ બેંકો અને ૧,૦૦૦ કરોડનું ટર્ન ઓવર
વતનપ્રેમીઓ પોતાના સંતાનોને લઇને દર વર્ષે ગામની મુલાકાતે આવે છે. ♦



અમદાવાદ,મંગળવાર
આર્થિક વિકાસની દોડમાં દેશના ગામડાઓ હજુ પણ પછાત રહી ગયા છે,રોજગારીના અભાવે મોટા શહેરો તરફ લોકની દોટ વધતી જાય છે ત્યારે ૧૧૦૦૦ની વસ્તી ધરાવતું આણંદ જિલ્લાનું ધર્મજ ગામ ભારતનું સૌથી સમૃદ્ધ ગામ બન્યું છે.આજે આ ગામના ૩૦૦૦ થી પણ વધુ લોકો પરદેશમાં વસે છે.વર્ષો પહેલા પરદેશ નિકળી ગયેલા લોકોની નવી પેઢીને વડિલો ગામની મુલાકાતે લાવે છે.

માત્ર આર્થિક માપદંડ જ નહી આરોગ્ય, શિક્ષણ,ખેતી,સહકાર,લોક ભાગીદારી અને સેવા પ્રવૃતિના કારણે આ ગામ અન્ય ગામોથી જુદુ પડે છે.ગામડામાં પણ શહેરો જેવી સુવિધાઓ ધરાવતા થઇ જાય તો ગામડાઓમાંથી શહેરો તરફ લોકો દોટ મુકી રહયા છે તે અટકી જાય.વિકસિત ગામ કોને કહેવાય એ ધર્મજ જોયા પછી આપો આપ સમજાઇ જાય છે.

♥ ૧૩ બેંકોમાં ૧,૦૦૦ કરોડથી પણ વધુ ડિપોઝીટ પડી છે. ♥

ધર્મજમાં ૧૯૫૯માં સૌ પ્રથમ દેનાબેંકની શાખા ખુલી હતી.ત્યાર બાદ ૧૯૬૯માં દેશમાં બેંકોનું રાષ્ટ્રીયકરણ થયું ત્યારે બેંક ઓફ બરોડા અને બેંક ઓફ ઇન્ડિયાની શાખાઓ ખુલી હતી.આ ઉપરાંત ૪૫ વર્ષ પહેલા ગામના ૫૪ સભાસદોએ ભેગા મળીને ૬.૬૩ લાખની ડિપોઝીટ સાથે સહકારી બેંકની શરૃઆત કરેલી આ સહકારી બેંક હાલમાં ૧૪.૨૦ કરોડની ડિપોઝીટ ધરાવે છે. આ ઉપરાંત ગામમાં નાની મોટી ૧૩ બેંકોમાં ૧૦૦૦ કરોડથી પણ વધુ ડિપોઝીટ પડી છે.આ રકમ દેશના કોઇ પણ ગામમાં હોય તેના કરતા વધારે છે. આજે ધર્મજ ગામની આ સમૃધ્ધિનું કારણ ગામના વર્ષોથી પરદેશમાં રહેતા નાગરીકો છે કે જેમણે ગામના વિકાસમાં મહત્વનો રોલ અદા કર્યો છે.ગામના નાગરીક રાજેશભાઇ પટેલ ધર્મજ ગામ પર પુસ્તક પણ લખ્યું છે.તેઓ કહે છે સતત દોડતી જતી જીવનની ઘટમાળમાં ખોવાયેલા માનવીને શોધવો હોય કે પછી આધુનિક શહેરોની સુખ સગવડો સાથે પ્રદુષણ મુકત ગ્રામ જીવનનો અનુભવ માણવો હોય તો ધર્મજ અચૂક જોવું જોઇએ.ધર્મજ આણંદ જિલ્લાના પેટલાદ તાલુકાના વાસદ વટામણ રાષ્ટ્રીય ધોરીમાર્ગ નંબર - ૮ પર આવેલું ગામ છે.ગામમાં ૨૭૭૦ કુટુંબો વસે છે.જયારે ગામની કુલ વસ્તી ૧૧૩૩૪ જેટલી છે.

♥ ૧૯૦૬માં ગામના જોઇતારામ કાશીરામ પટેલે પહેલું પરદેશ ગમન કરેલું. ♥

એક જમાનામાં વિદેશ જવું વિકટ મનાતું હતું ત્યારે ગામમાંથી ૧૯૦૬માં જોઇતારામ કાશીરામ પટેલ નામની વ્યકિત માંઝા જયારે ચતુરભાઇ પટેલ યુગાન્ડાના મબાલે ખાતે ગયા હતા.૧૯૧૦માં માન્ચેસ્ટર જનારા પ્રભુદાસ પટેલ ગામમાં માન્ચેસ્ટર વાળા તરીકે ઓળખાતા હતા. જયારે ૧૯૧૧માં એડન ખાતે ગામના ગોવિંદભાઇ પટેલે તમાકુનો વેપાર શરૃ કર્યો હતો. આ ગામના ૩૦૦૦ થી પણ વધુ લોકો વિદેશમાં વસે છે. જેમાં ૧૭૦૦ બ્રિટનમાં,૮૦૦ અમેરિકામાં,૧૬૦ ન્યુઝીલેન્ડમાં,૨૦૦ કેનેડામાં અને ૬૦ ઓસ્ટ્રેલિયામાં રહે છે.વિદેશમાં વસતા મોટા ભાગના લોકો વેલસેટ અને પરિવાર સાથે રહે છે. આથી તેઓ જયારે પોતાના માદરે વતન પધારે ત્યારે ગામમાં ઉત્સવ જેવું વાતાવરણ ઉભું થાય છે.ધર્મજ ગામના બેંક કર્મચારીના જણાવ્યા અનુસાર આ ગામના એન આર આઇ સરકારી બેંકોમાં પૈસા મુકવાનું વધારે પસંદ કરતા હોવાથી આ ગામ દેશનું ધનવાન ગામ બન્યું છે.
ગામમાં દર વર્ષે ધર્મજ ડે પણ ઉજવાય છે જેમાં વિદેશ રહેતા મૂળ ગામવાસીઓ ભાગ લે છે.

ગામમાં ધર્મ જ ડે પણ ઉજવાય છે.એટલું જ નહી દાયકાઓ પહેલા પરદેશમાં રહેતા લોકો પોતાના સંતાનોને ધર્મજ ગામનો પરિચય કરાવે છે.

જયારે વડિલો વર્ષમાં એક વખત ધર્મજ ગામની અચૂક મુલાકાત લે છે. ખાસ કરીને આ ગામના નાગરીકો હોટલ અને મોટેલ અને સ્ટોર્સના બિઝનેસમાં સાહસિકતા, પ્રમાણિકતા, મહેનત અને વ્યવસ્થાપનના કારણે પોતાના ક્ષેત્રમાં ખૂબજ નામ કાઢયું છે. આથી ધર્મજ ગામના નાગરીકને ધર્મજીયન કહેવામાં આવે છે.જેમ નોન રેસિડન્સ ગુજરાતી એટલે એનઆરજી એવી જ રીતે પરદેશમાં રહેતા ધર્મજના નાગરીકને એનઆરડી તરીકે ઓળખવામાં આવે છે. ધર્મજ ગામમાં ત્રણ પેઢીથી બહાર રહેતા લોકોએ ત્રણ થી ચાર મહિના ગામમાં રહેવા માટે પરદેશ સ્ટાઇલના નવા મકાનો પણ બાંધવાનું શરૃ કર્યું છે આથી જે પોતાના વતન પ્રત્યેનો પ્રેમ દર્શાવે છે.આથી ધર્મજ સૌને ગમી જાય તેવું ગામ બન્યું છે.૧૨ મી જાન્યુઆરી ૨૦૦૬ના રોજ ધર્મજ ડે પણ ઉજવાયો હતો.જેમાં ધર્મજનું નામ રોશન કરનારા વતનીઓને ધર્મજ રત્ન અને ધર્મજ ગૌરવ પુરસ્કાર આપીને સન્માનિત કરવામાં આવ્યા હતા.

♥ વનસ્પતિ જગત ♥























Tuesday, 24 November 2015

♥ दुनिया का सबसे बडा टेलीस्कोप ♥

♥ 30 फुटबॉल मैदानों के बराबर टेलीस्‍कोप, दुनिया की सबसे बड़ी रेडियो दूरबीन का परीक्षण शुरू ♥

→ चीन ने दुनिया की सबसे बड़ी रेडियो दूरबीन की टेस्‍टिंग शुरु कर दी है। 500 मीटर व्‍यास वाली इस दूरबीन का नाम 'FAST' रखा गया है। चीनी साइंटिस्‍टों का यह एक महत्‍वाकांक्षी प्रोजेक्‍ट है।

♦ 2016 में बनकर तैयार ♦

एक रिपोर्ट के मुताबिक, साउथ-वेस्‍ट चीन के गुइझाऊ इलाके में चीनी साइंटिस्‍टों ने दुनिया की सबसे बड़ी रेडियो दूरबीन बनाई है। हालांकि इसका काम अभी चल रहा है और उम्‍मीद है कि इसे सितंबर 2016 तक कंप्‍लीट कर लिया जाएगा। यह दूरबीन गोल आकृति की है जिसकी चौड़ाई 500 मीटर है। इस डिवाइस का नाम 'FAST' (Five-hundred-meter Aperture Spherical Telescope) रखा गया है। इसे शहरी इलाकों से दूर पहाड़ियों के बीच बनाया गया है। यह इतनी विशालकाय है कि इसमें 30 फुटबॉल ग्राउंड समा जाएंगे।

★ 45,00 ट्राइएंगुलर पैनल लगे हैं l ★

इस दूरबीन के निर्माण में लगभग 5 साल लग चुके हैं। इसमें 4500 ट्राइएंगुलर पैनल लगे हैं जोकि दूरबीन के गोलाई में बाहरी तरफ लगे हैं। यही नहीं इसमें 6 एंटीना भी लगे हैं। यह इतना बड़ा है कि इसका एक चक्‍कर लगाने में 40 से 45 मिनट का समय लगता है। चाइनीज अर्थारिटीज की मानें, तो इसके सेंटर में रेटिना को सफलतापूर्वक इंस्‍टॉल कर दिया गया है। इस पूरे मैकेनिज्‍म का वजन 30,000 किग्रा है। जिसमें कि रिफ्लेक्‍टर डिश लगे हैं। साइंटिस्‍टों का कहना है कि, दूरबीन में लगा रिफ्लेक्‍टर डिश एंटीना पूरे ब्रह्मांड से सिग्‍नल्‍स को कलेक्‍ट कर सकेगा।

★ 8 अरब रुपये की लागत ★

चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंस के चीफ साइंटिस्‍ट ली डी ने बताया कि, यह एक अदभुत प्रोजेक्‍ट है जिसे जून 2016 तक पूरा कर लिया जाएगा। जबकि सितंबर से यह काम करने लगेगा। इस दूरबीन की डिजाइन ज्‍यादा कठिन नहीं है यह टीवी एंटीना जैसा ही है। बस अंतर इतना है कि यह काफी विशालकाय है। इस रेडिया दूरबीन को बनाने में 124 मिलियन यूरो (लगभग 8 अरब रुपये) की लागत लगी है। यह चीन का सबसे बड़ा एस्‍ट्रोनॉमी प्रोजेक्‍ट है।


♥ Rubik's Cube World Record ♥






Teenager Lucas Etter sets new fastest time to solve a Rubik's Cube world record - watch video ↓


CLICK HERE 

Guinness World Records can today confirm that Lucas Etter, a 14-year-old from Kentucky, US, has set a new world record for the Fastest time to solve a Rubik's Cube, becoming the first person to break the 5 second barrier for unmixing a standard 3x3x3 puzzle.

Fast-fingered Lucas completed the puzzle in an astounding 4.904 seconds during an event at the River Hill High School in Clarksville, Maryland on Saturday.

The feat has been ratified by the World Cube Association, an organisation recognised by Guinness World Records that regulates and holds Rubik's Cube competitions.

Incredibly, the event had seen the record broken once already earlier in the day, with Keaton Ellis, a fellow speed cuber from Maryland, managing to solve the cube in 5.09 seconds, beating the previous record of 5.25 seconds set by Collin Burns back in April.

Lucas’ achievement comes just two months after he set a new record for the fastest average time to solve a 2x2x2 Rubik's Cube, after registering a time of 1.51 seconds  at Woodmont Hills Church in Nashville, Tennessee, USA, back in September.


Friday, 13 November 2015

♥ परमाणु बम के बारे मे जुडी 25 अनजान बाते ♥




परमाणु बम दुनिया के विनाश का दूसरा नाम है। हिरोशिमा-नागासाकी की बर्बादी की कहानियां आज भी लोगों की आंखें नम कर देती हैं। पर परमाणु हथियारों के बारे में कुछ ऐसी भी बाते हैं, जिनके बारे में आम लोग नहीं जानते। ऐसे में आईबीएनखबर.कॉम आपको परमाणु हथियारों के बारे में 25 अनजानी बातों से रूबरू करा रहा है, जिनके बारे में आगे की स्लाइड्स में पढ़ सकते हैं I

1. वेला हादसा नाम से हुआ परमाणु धमाका दुनिया में अबतक हुए 2000 परमाणु धमाकों से एक दम अलग है। ये इकलौता परमाणु धमाका था, जिसकी जिम्मेदारी किसी भी देश ने नहीं ली। ये धमाका 3 किलोटन के बम में हुआ था, जो सन 1979 में हिंद महासागर में हुआ था।

2. अमेरिकी एयरफोर्स ने गलती से उत्तरी कैरोलिना पर 2 परमाणु बमों को गिरा दिया था। पर आश्चर्यजनक रूप से उनमें से कोई भी नहीं फटा।

3. एकतरफा परमाणु धमाके के बाद केसियम-137 और स्ट्रॉन्टियम-90 जैसे अवयवों का भी उत्सर्जन होता है। इनके बारे में 1945 के परमाणु धमाकों से पहले किसी को नहीं पता था।

4. अमेरिका नाटो देशों के साथ अपने परमाणु हथियारों को साझा करता है। ये परमाणु हथियार अमेरिका के अतिरिक्त बेल्जियम, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड और तुर्की में तैनात हैं।

5. रूसी जार बम दुनिया में फटा सबसे बड़ा परमाणु बम था, जिसमें पूरी दुनिया के एक तिहाई हिस्से को बर्बाद करने की क्षमता थी।



6. न्यूट्रॉन बम असल में परमाणु बम ही है, पर उन्हें इस तरह से डिजाइन किया गया है कि उनके धमाके से खास क्षेत्रफल तक ही विकिरण फैले।

7. अमेरिका ने न्यू मैक्सिको में जिस जगह पहला परमाणु परीक्षण किया था, वहां आज परमाणु म्यूजियम है। पर ये पूरे साल में सिर्फ 12 घंटे के लिए एक ही बार खुलता है। पूरी दुनिया इसे ट्रिनिटी साइट के नाम से ही जानती है।

8. सीटी स्कैन के समय इतना विकिरण फैलता है, जितना विकिरण हिरोशिमा में परमाणु धमाके के 1.5 मील दूर तक फैला था।

9. जॉर्जिया में अमेरिकी एयरफोर्स की गलती की वजह से परमाणु बम कहीं खो गया है। ये दुर्घटना सन 1958 में हुई थी। अब तक वो परमाणु बम मिल नहीं सका है।

10. डॉ एडवर्ड टेलर को हाइड्रोजन बम का जनक माना जाता है। पर उन्होंने पनामा जैसे कई नहरों को बनाने की लोकोपकारी योजना भी बनाई थी, ताकि मानवता का कल्याण हो सके।



11. अमेरिका के 11 परमाणु बम अब तक दुर्घटनावश गायब हो चुके हैं, जिनका कहीं कोई अता पता नहीं है।

12. रूस के पास दुनिया के किसी भी देश के मुकाबले सबसे ज्यादा परमाणु हथियार हैं। रूसी परमाणु हथियारों की संख्या 8400 है। दूसरे नंबर पर अमेरिकी परमाणु हथियार हैं, जिनकी संख्या 7650 है। वहीं, फ्रांस के पास 300, ब्रिटेन के पास 225 और चीन के पास 240 परमाणु हथियार हैं, जबकि पाकिस्तान के पास 125 तो भारत के पास 85 से 95 परमाणु हथियार हैं।

13. हिरोशिमा में गिराया गया परमाणु बम जब फटा था, तब वो पेपरक्लिप के बराबर था।

14. अमेरिका ने शीतयुद्ध काल के समय चांद पर परमाणु बम धमाके का प्लान बनाया था, ताकि वो पुरी दुनिया को अपनी ताकत दिखा सके।

15. अमेरिका में 1950 के दशक में लास वेगास परमाणु बम के टेस्ट की वजह से प्रमुख पर्यटक स्थल बन गया था।



16. अमेरिका ने सन 1988 तक परमाणु हमले की सूरत में लोगों को सुरक्षित ऊंचे स्थानों तक पहुंचाने के लिए 2 बिलियन डॉलर का बजट रखा था, ताकि परमाणु युद्ध की दशा में वो लोगों को सुरक्षित रख सके।

17. अमेरिका ने सन 1962 में जापान पर गिराए परमाणु बमों से 100 गुना ज्यादा ताकतवर बम का धमाका आसमान में कर दिया था। इस बम के टुकड़े अटलांटिक महासागर पर 400 किमी दूर तक फैल गए थे।

18. अमेरिका में बिजली की खपत का 10 फीसदी हिस्सा परमाणु बमों को बर्बाद कर निकाले गए प्लूटोनियम से बनाया जाता है।

19. हिरोशिमा पर परमाणु हमले के महज एक माह बाद ही सुनामी का हमला हुआ था, जिसमें 2000 लोग मारे गए थे।

20. हिरोशिमा परमाणु हमले में महज एक बोंसाई पेड़ बचा था, जो सन 1626 में लगाया गया था। वो बोंसाई वृक्ष अब अमेरिका के म्यूजियम में रखा गया है।



21. नागासाकी पर गलती से परमाणु बम गिरा था। दरअसल, अमेरिका वो बम जापान के कोकुरा शहर पर गिराना चाहता था, पर बादल छाए होने की वजह से वो शहर की पहचान नहीं कर पाए और नागासाकी पर बम गिरा दिया।

22. जापान में फटने वाले दोनों बमों का कोड नेम फैट मैन और लिटिल बॉय था l

23. परमाणु धमाके में बचने वाले दूसरे जापानी का नाम शिगेकी तनाका था, जिन्होंने 1951 में बोस्टन मैराथन में जीत हासिल की थी।

24. नागासाकी-हिरोशिमा बम धमाकों में बचने वाले त्सुतोमु यामागुची पहले जापानी शख्स थे।

25. हिरोशिमा और नागासाकी में अब रेडियोएक्टिव पदार्थ नहीं है। इसकी वजह है परमाणु बमों का जमीन के ऊपर फटना। ये दुनिया की इकलौती साइट है, जहां परमाणु विस्फोट के बावजूद विकिरण का डर नहीं रह गया है।

♥ IRAN ♥



ईरान भारत देश के सर्वाधिक करीब रहा है। कभी ईरान की तरफ से भारत की जमीन पर विदेशी हमलावरों का आगमन होता था। जो दुनिया की सबसे पुरानी जीवित सभ्यता है। ईरान के भारत से बहुत पुराने संबंध रहे हैं, तो प्राचीन काल से ही ईरान यूरोप से भी जुड़ा रहा है। तमाम योद्धाओं की धरा ईरान की ऐतिहासिकता बेहद महत्वपूर्ण है। ऐसे में आईबीएनखबर.कॉम आपके सामने ईरान से जुड़ी 25 खास बातें बता रहा है, जिनके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

1. ईरान की सभ्यता अन्य आदिम सभ्यताओं की तरह नहीं रही। ईरान में सिविलाइजेशन का पुराना इतिहास रहा है। यहां बड़े बड़े साम्राज्य रहे हैं, तो क्रूरतम शासकों का देश भी ईरान रहा है। ईरान में सिविलाइजेशन और साम्राज्यों का इतिहास हजारों साल पुराना है। यहां खेती बाड़ी और शुरुआती शहरीकरण ईसा से 5000 साल पहले ही हो चला था।

2. ईरान का पुराना रान पर्सिया या फारस है। ईरान में 4000 साल पहले से ही ग्रामीण और शहरी जीवन का प्रादुर्भाव हो चुका था, जबकि समूची दुनिया तब तक कबीलों के तौर पर रहा करती थी l

3. ईरान में मेदी साम्राज्य सर्वाधिक महत्वपूर्ण रहा है। ईसा पूर्व 1500 सालों पहले फारसी सम्राट साइरस ने महान साम्राज्य खड़ा कर लिया था। ये साम्राज्य ईसा पूर्व 525 तक रहा, जिसका फैलाव मिश्र के नील नदी के तट तक था।

4. फारसी भाषा में ईरान का शाब्दिक अर्थ है 'आर्यों की जमीन'। ईरान का आधिकारिक नाम है इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान, जो 11 फरवरी 1979 में इस्लामिक क्रांति के बाद अस्तित्व में आया। ईरान को सन 1935 तक समूची दुनिया फारस के नाम से ही जानती थी।

5. ईरान की आधिकारिक भाषा फारसी है, जिसका इस्तेमाल शिक्षा, प्रशासन और व्यावसायिक जीवन में प्रमुखता से होता है। ईरान में अजेरी, कुर्दिश, अरेबिक और आर्मेनियन भाषाएं भी बोली जाती हैं।

6. फारसी भाषा का इस्तेमाल ईरान के अतिरिक्त तजाकिस्तान और अफगानिस्तान में आज भी होता है। करीब 200 सालों पहले फारसी भाषा भारत के साम्राज्यों की आधिकारिक भाषा हुआ करती थी। खासकर मुगलों व अन्य मुस्लिम साम्राज्यों की।

7. ईरान क्षेत्रफल के मामले में दुनिया का 18वां सबसे बड़ा देश है। वहीं, 80 मिलियन की आबादी के साथ जनसंख्या में भी ईरान का 18वां स्थान ही है।

8. ईरान में इस्लाम धर्म ही राजधर्म है। यहां शिया मुस्लिम ही बहुमत में हैं। शिया के बाद सुन्नी मुस्लिमों की सर्वाधिक आबादी है, तो यहूदी, इसाई और बहाई भी इरान में रहते हैं। ईरान की राजधानी का नाम तेहरान है, जिसका अर्थ है गर्म टीला। यहां फासदी मूल के लोगों की संख्या 61 फीसदी है।

9.ईरान में विश्व धरोहरों की लंबी सूची है। सर्वाधिक धरोहरों के मामले में ईरान का स्थान सातवां हैं। ईरान दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा प्राकृतिक गैस उत्पादक देश है, तो तीसरा ऑयल रिजर्व।

10.ईरान की सीमा 10 देशों से मिलती हैं। जिसमें आर्मेनिया, अजरबैजान, तुर्कमेनिस्तान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, ओमान, यूएई, कुवैत, इराक और तुर्की हैं।

11.ईरान दुनिया के महान योद्धाओं दानियल, साइरस महान, रानी ईस्थर, दारियस महान की धरती रहा है।

12.ईरान में परिवार सामाजिक जिम्मेदारी है। जो समाज की पहली सीधी है। परिवार का मुखिया ही पूरे परिवार के लिए जिम्मेदार होता है।

13. ईरान में अगर आपको किसी के घर से न्यौता मिला हुआ है, तो दरवाजे पर ही देख लें कि उस व्यक्ति ने घर में जूता या चप्पल पहना है या नहीं। अगर नहीं, तो दरवाजे पर ही जूते उतार दें।

14.ईरानी घरों में टेबल और कुर्सियां नहीं होती। यहां लोग जमीन पर बैठकर भोजन करते हैं और खास तरह के तकियों का इस्तेमाल करते हैं।

15.ईरान में सेटेलाइट टेलीविजन पर रोक है। पर डीटीएच के माध्यम से काफी लोग मनोरंजन का लुत्फ उठाते हैं।

16.ईरान के मौजूदा झंडे में 3 रंग है, जो 1980 को अंगीकृत किया गया था। इसमें हरा, सफेद और लाल रंग है। हरा रंग विकास और इस्लाम का प्रतीक है, तो सफेद रंग इमानदारी और शांति का। वहीं, लाल रंग बहादुरी और शहादत का। सफेद पट्टी के बीच अल्लाह शब्द लिखा हुआ है।

17.ईरान दुनिया के सबसे युवा देशों में से एक है। ईरान की 70 फीसदी आबादी 30 साल के नीचे है। ईरान में जो लोग विवाह नहीं करते, वो अपने परिवार के साथ ही रहते हैं।

18. ईरान में शादी का प्रमाणपत्र हासिल करने के लिए 1 घंटे का लेक्चर सुनना होता है, जो गर्भनिरोधकों पर होता है। ईरान में 13-15 साल के ऊपर के बच्चियों का हिजाब पहनना अनिवार्य है। वहीं, पुरुष किसी भी तरह के सभ्य कपड़े पहन सकते हैं।

19.ईरानी बिल्ली की प्रजाति दुनिया में बिल्लियों की सबसे पुरानी प्रजाति है। जिसके शरीर पर बड़े बाल होते हैं, ताकि वो सर्दी से स्वयं की रक्षा कर सके।

20.ईरान की मुद्रा रियाल है। इस देश की कुल जीडीपी 987.1 बिलियन डॉलर(2013) है।

21. ईरान और इराक के बीच सितंबर 1980 से अगस्त 1988 तक युद्ध चला, जो बीसवीं शताब्दी का सबसे लंबा युद्ध था।

22. ईरान-इराक युद्ध के समय अमेरिका की दोगली नीति सामने आई। एक तरफ अमेरिका युद्ध में इराक को सहयोग दे रहा था, तो दूसरी तरफ वो इरान को युद्ध सामग्री व हथियार बेच रहा था। इसे ईरान गेट प्रकरण नाम से जाना गया।

23.ईरान में अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने निर्वाचित लोकतांत्रिक सरकार के खिलाफ 1953 में शाह के साथ मिलकर अभियान चलाया और शाह को संपूर्ण सत्ता प्रदान की। जिसके बाद शाह ने ईरान के 40 फीसदी तेल उत्पादों को अमेरिका के हवाले कर दिया। अमेरिका की भूमिका लोकतांत्रिक सरकार को उखाड़ फेंकने में सामने आने के बाद ईरानी जनता ने विद्रोह कर दिया और सालों की लड़ाई के बाद शाह की सत्ता को उखाड़ फेंका।

24. सन 1979 में इस्लामिक छात्रों और राष्ट्रवादियों के समूह ने तेहरान में अमेरिकी दूतावास पर धावा बोलकर सभी को बंधक बना लिया। ये बंधक संकट ईरानी क्रांति के समर्थन में था। ये बंधक संकट 444 दिनों तक चला।

25.ईरान में कारुन नाम की सिर्फ एक ही नदी है। यहां पर सिर्फ छोटी दूरियों के लिए ही जलमार्ग का इस्तेमाल होता है।

♥ પ્રાચીન ગણિતનો ઇતિહાસ ♥

♥ પાયથાગોરસ ♥

♥ ભાસ્કરાચાર્ય ♥

♥ વરાહમિહિર ♥

♥ સ્વામી ભારતીકૃષ્ણ તીર્થસ્વામી મહારાજ ♥

♥ આર્યભટ્ટ ♥