આ બ્લોગમાં વર્તમાનપત્રો, મેગેઝિનો, વિકીપીડીયા,GK ની વેબસાઇટો, વગેરે માધ્યમોનો સંદર્ભ તરીકે ઉપયોગ કરવામા આવેલ છે જે માટે સૌનો હ્રદયપૂર્વક આભાર વ્યક્ત કરુ છુ.

Sunday, 31 July 2016

♥ દુનિયાની Real જગ્યા જોઇને તમે કહેશો Fake ♥

દુનિયામાં એવી ઘણી બધી જગ્યા છે જેના સત્ય પર વિશ્વાસ કરવો મુશ્કેલ બની જાય છે. અને કેટલીક જગ્યાઓ એવી છે જે પહેલી નજરમાં જોવાથી ખોટી લાગે છે, પરંતુ અસલમાં રિયલ હોય છે. આજે અમે તમને કેટલીક એવી જ જગ્યાઓ માટે જણાવીશું જેમ કે આપણે કોઇ પેન્ટિંગને જોઇ રહ્યા છે એવું લાગશે.


( 1 ) ગ્રાન્ડ પ્રિસ્મેટિક ઝરણું

અમેરિકાના વ્યોમિંગમાં આવેલ ગ્રાન્ડ પ્રિસ્મેટિક ઝરણું જોઇને તમને એવું જ લાગશે કે આ નકલી ઝરણું છે. પરંતુ રિયલમાં આ ઝરણાંના ઘમા કલર છે. જેમાં લીલો, પીળો, લાલ, કાલો અને સફેદ જેવા રંગનો સમાવેશ થાય છે.


( 2 )  ગ્લાસ બીચ, કેલિફોર્નિયા, અમેરિકા

કેલિફોર્નિયામાં બનેલો આ ગ્લાસ વચ્ચેથી ખૂબ સુંદર લાગે છે. એમાં તમે કલર ફૂલ ગ્લાસ જોઇ શકો છો.


( 3 ) લેક હિલિયર, ઓસ્ટ્રેલિયા

ઓસ્ટ્રેલિયામાં બનેલું આ હિલિયર લેકથી બનેલું છે જે જોવામાં પેન્ટિંગથી કઇ ઓછું નથી.


( 4 )  ડેડ વેલી, નામિબિયા

નામિબિયાની આ વેલીને ડેડ વેલી કહેવામાં આવે છે આ કોઇ સિનેરી કરતાં ઓછું નથી.


( 5 ) દલ્લોલ વોલ્કાનો, ઇથિયોપિયા

આ એક પર્વત છે જે પીળા રંગનો જાવો મળે છે અને જોવામાં ખોટો લાગે છે. પરંતુ દલ્લોલ વોલ્કાનો રિયલમાં એવો જ છે.


♥ બ્લડ ગૃપ અને ખોરાક ♥


♥ અમૃતસર સુવર્ણમંદિરની રહસ્યમય વાતો ♥

જે હર્મિંદર સાહેબના નામથી પણ ઓળખવામાં આવે છે, આ મંદિર દુનિયાભરના પ્રવાસીઓને પોતાની તરફ આકર્ષિત કરે છે. અત્રે માત્ર શીખ સમુદાયના લોકો જ નહીં પરંતુ દરેક ધર્મના લોકો એટલી જ શ્રદ્ધાથી આવે છે.

આ ગુરુદ્વારા પવિત્ર અમૃતસર નગરમાં છે અને તે આજે ભારતના મુખ્ય પ્રવાસન સ્થળોમાંથી એક છે. આ મંદિરની સુંદરતા મનને લુભાવે છે અને તે પ્રવાસીઓમાં એક ખાસ ધાર્મિક મહત્વ રાખે છે.તેના ધાર્મિક અને સાંસ્કૃતિક મહત્વ ઉપરાંત તેના કેટલાંક રસપ્રદ અને અનોખી વાતો પણ છે. આવો જાણીએ આ ઐતિહાસિક સુવર્ણ મંદિર વિશેની રહસ્યમય વાતો.

મંદિરને જ્યારે શરૂમાં બનાવવામાં આવ્યું તો તેમાં સોનાની પોલિસ ન્હોતી કરવામાં આવી. 19મી સદીમાં પંજાબના રાજા મહારાજા રણજીત સિંહના કાર્યકાળમાં તેનું રિનોવેશન કરવામાં આવ્યું. ત્યારબાદ તેનું એ સ્વરૂપ સામે આવ્યું જે હાલમાં દેખાય છે.


આ મંદિર બન્યું તે પહેલા આ સ્થળ પર શીખોના પ્રથમ ગુરુ, ગુરુ નાનકજીએ ધ્યાન કર્યું હતું. શીખોના પાંચમાં ગુરુ, ગુરુ અંજાનના સમયમાં આ મંદિર બન્યું હતું.

આ એક પવિત્ર સ્થાન છે, જ્યાં આવનારા 35 ટકા પ્રવાસીઓ શીખ ઉપરાંત અન્ય ધર્મોને માનનારા છે

ધાર્મિક કાર્યક્રમોમાં અત્રે લાગનાર લંગરમાં 2 લાખથી પણ વધારે લોકો ભોજન પ્રસાદી મેળવે છે. અને તેનાથી વધારે આશ્ચર્યની વાત છે કે આ તમામ ભોજન ભક્તો દ્વારા જ દાન કરવામાં આવે છે.

અત્રેની સીઢીયો અન્ય પવિત્ર સ્થાનોની જેમ ઉપર નથી જતી, પરંતુ નીચેની તરફ જાય છે. તેની ડિઝાઇનમાં દેખાડાને સ્થાને વિનમ્રતા દેખાય છે. આ આખું મંદિર શહેરના લેવલથી નીચેની તરફ આવેલું છે.


દરેક સવારે ગુરુગ્રંથ સાહિબ (શીખોનો ધાર્મિક ગ્રંથ)ને અકાલ તખ્ત સાહિબથી ફુલો અને ગુલાબ જળની સાથે સોનાની પાલકીમાં મંદિરના દરબાર હોલમાં લાવવામાં આવે છે. પવિત્ર ગુરુગ્રંથ સાહિબને પાછા અકાલ તખ્તમાં લઇ ગયા બાદ સંપૂર્ણ દરબારને દૂધથી ધોવામાં આવે છે.

હાથોથી પેઇન્ટ કરવામાં આવેલ ચિત્રો અને કલાકૃતિઓથી આ મુગલ અને ભારતીય વાસ્તુકલાનું એક નાયાબ નમૂનો પ્રતીત થાય છે.


♥ INDONESIA ♥

  
इंडोनेशिया में मुसलमानों की सबसे ज़्यादा जनसंख्या बसती है। दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा। ये पूर्वी एशिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

इंडोनेशिया,  मलेशिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच हज़ारों द्वीपों पर फैला हुआ है। हजारों द्वीप तो पूरी तरह से निर्जन हैं।

इंडोनेशिया विविधताओं से भरा देश है जिसमें 300 से ज़्यादा स्थानीय भाषाओं का इस्तेमाल होता है।

  
इंडोनेशिया में किसी और देश की तुलना में सबसे ज़्यादा द्वीप हैं, चौदह हज़ार से भी ज़्यादा। जिनमें हजारों द्वीपों पर कोई नहीं रहता।

इंडोनेशिया की जनसंख्या 25.5 करोड़ से ज़्यादा है और ये दुनिया की चौथी सबसे बड़ी आबादी वाला देश है।

इंडोनेशिया दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के समूह जी-20 का सदस्य भी है।

भौगोलिक तौर पर इंडोनेशिया भूकंप और ज्वालामुखी विस्फोट के प्रति संवेदनशील है। 2004 में समुद्र में आए भारी भूकंप ने पूरे द्क्षिण और पूर्व एशिया के तटीय इलाक़ों को तबाह कर दिया था। हिंद महासागर में आए इस सुनामी में क़रीब 220,000 इंडोनेशियाई लोग मारे गए या लापता हो गए।

इंडोनेशिया को पारंपरिक रूप से बेहद समृद्ध माना जाता है और इस देश में त्योहारों की धूम रहती है।

इंडोनेशिया का प्राचीन भारत से भी संबंध रहा है। आज भी यहां के त्योहारों में भारतीयता की झलक दिखाई पड़ती है। यहां प्राचीन हिंदू मंदिर भी हैं जो इस बात की गवाही देते हैं। इस देश में बड़ी संख्या में भारतीय बसते हैं।


♥ अनोखा मंदिर ♥



भारत में कई मंदिर है। हर मंदिर की अपनी विशेषता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आपने शायद ही अब तक सुना और जाना होगा। इस अनोखे मंदिर का रहस्य हम इसलिए बता रहे हैं क्योंकि यहां पर अंग्रेजों की बलि चढ़ाई जाती थी।

यह बात 1857 के प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम से पहले की है। इससे पहले इस इलाके में जंगल हुआ करता था। यहां से गुर्रा नदी होकर गुजरती थी। इस जंगल में डुमरी रियासत के बाबू बंधू सिंह रहा करते थे। नदी के तट पर तरकुल (ताड़) के पेड़ के नीचे पिंडियां स्थापित कर वह देवी की उपासना किया करते थे। तरकुलहा देवी बाबू बंधू सिंह कि इष्टदेवी कही जाती हैं।


उन दिनों हर भारतीय का खून अंग्रेजों के जुल्म की कहानियां सुनकर खौल उठता था। जब बंधू सिंह बड़े हुए तो उनके दिल में भी अंग्रेजों के खिलाफ आग जलने लगी। बंधू सिंह गुरिल्ला लड़ाई में माहिर थे। इसलिए जब भी कोई अंग्रेज उस जंगल से गुजरता, बंधू सिंह उसको मार कर उसके सर को काटकर देवी मां के चरणों में समर्पित कर देते थे।

पहले तो अंग्रेज यही समझते रहे कि उनके सिपाही जंगल में जाकर लापता हो जा रहे हैं, लेकिन धीरे-धीरे उन्हें भी पता लग गया कि अंग्रेज सिपाही बंधू सिंह के शिकार हो रहे हैं। अंग्रेजों ने उनकी तलाश में जंगल का कोना-कोना छान मारा, लेकिन बंधू सिंह किसी के हाथ नहीं आए।


इसी इलाके के एक व्यवसायी की मुखबिरी के चलते बंधू सिंह अंग्रेजों के हत्थे चढ़ गए। अंग्रेजों ने उन्हें गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया जहां उन्हें फांसी की सजा सुनाई गयी, 12 अगस्त 1857 को गोरखपुर में अली नगर चौराहे पर सार्वजनिक रूप से बंधू सिंह को फांसी पर लटका दिया गया।

बताया जाता है कि अंग्रेजों ने उन्हें 6 बार फांसी पर चढ़ाने की कोशिश की, लेकिन वे सफल नहीं हुए और बार बार फांसी की रस्सी अपने आप ही टूट जाती थी। इसके बाद बंधू सिंह ने स्वयं देवी मां का ध्यान करते हुए मन्नत मांगी, कि मां मुझे जाने दे। कहते हैं कि बंधू सिंह की प्रार्थना देवी ने सुन ली और सातवीं बार में अंग्रेज उन्हें फांसी पर चढ़ाने में सफल हो गए। अमर शहीद बंधू सिंह की याद में उनके वंशजों ने उनके सम्मान में यहां एक स्मारक भी बनवाया है।


यह देश का इकलौता मंदिर है जहां प्रसाद के रूप में मटन, मीट दिया जाता है। बंधू सिंह ने देवी मां के चरणों में अंग्रेजों का सिर चढ़ा कर जो बलि कि परम्परा शुरू की थी। वो आज भी यहां निभाई जाती है। लेकिन अब यहां पर अंग्रेजों के सिर की जगह बकरे कि बलि चढ़ाई जाती है। उसके बाद बकरे के मांस को मिट्टी के बरतनों में पका कर प्रसाद के रूप में बांटा जाता है साथ में बाटी भी दी जाती है।


Saturday, 30 July 2016

♥ વાંસના ઝાડ વિશે તમે કેટલું જાણો છો? ♥


વાંસને હવે માત્ર ઠાઠડી બાંધતી વખતે જ યાદ કરાય છે. વાંસના ઝાડ આંબા કરતાંય મોભાદાર છે.

આંબો દસ વર્ષે કેરી આપે તો વાંસ ૩૦ વર્ષે, ૬૦ વર્ષે કે ૧૨૦ વર્ષે નવા ફૂલ મુકીને તેનાં બીજ આપે છે. વાંસ વિષે આપણું જ્ઞાન મર્યાદિત છે.

વાંસના વૃક્ષનાં પાંદડામાં બીજા ઘાસ કરતા ચાર ગણું પ્રોટીન હોય છે.

તેનામાં સિલિકા ધાતુના અંશ હોઇ તે અત્યંત મજબૂત છે.

હોંગકોંગની બહુમાળી ઇમારતો બાંધવા વાંસના માંચડા હજી કામે લેવાય છે.

વાંસના માવામાંથી ઉત્તમ કાગળ પણ બને છે.

દરેક વાંસના વૃક્ષની અંદર એક આંતરિક ઘડિયાળ છે. ચીન, મલેશિયા કે ગુજરાત કે આસામના વાંસના રોપને તમે જગતના કોઇ પણ છેડે લઇને રોપી દો. બધા જ દેશોના વાંસના વૃક્ષ પર એક જ દિવસે ફૂલ ઉગશે. એક જ દિવસે બીજ ખીલીને ખેરવાઇ જશે અને કુદરતી રીતે એક જ દિવસે વાંસનું વૃક્ષ સુકાઇને ઢળી પડશે!


Thursday, 28 July 2016

♥ LATEST BOOKS & AUTHORS ♥


☀True Colours — Adam Gilchrist
☀️Storm Over the Sutlej–Akali
☀️Politics — A.M. Narang
☀️My Life Struggle — Khan Abdul Gaffar Khan
☀️Asking for Trouble — Amreek Singh
☀️Sandy Storms — Sandeep Patil
☀️Runs in Ruins — Sunil Gavaskar
☀️Assam-A Valley Divided — Shekhar Gupta
☀️Speaking for My Life — Cherry Blair
☀️The Things About Thugs — Tabish Nair
☀️The Heritage of Sikhs — Harbans Singh
☀️Secular Perception in Sikh Faith — K.M. Duggal
☀️Basanti — Bhishma Sahani
☀️Rich Like Us — Nayantara Sehgal
☀️Reflection on our Time — P.N. Haksar
☀️Hinduism — Nirad C. Chaudhari
☀️Bliss was in that Dawn — Minoo Masani
☀️Netaji and Gandhi — Shashi Ahluwalia
☀️Survivors — Randheer Khare
☀️Alone in the Multitude — Amrita Pritam
☀️Swami and Friends — R.K. Narain
☀️Terrorism in India — Shaileshwar Jha
☀️Struggle For Change — K.B. Lal
☀️The Indian Epics Retold — R. K. Narayan
☀️Indian Drama — Chelapati Rao
☀️The Last Hero — Mihir Bose
☀️You cannot Please every one — Kavita Sarkar
☀️Mrs. Gandhi’s Second Regime — Arun Shourie
☀️The Emerging Developing Countries — P.G. Salve
☀️Pakistan-The Gathering Storms — Benazir Bhutto
☀️The Morarji Papers — Arun Gandhi
☀️The Lord of the Flies — William Goldings
☀️Agnigarbha — Amrat Lal Nagar


Wednesday, 27 July 2016

♥ अगर आप रोजाना नींबू पानी पीते हैं तो ध्यान रखें ये 10 बातें ♥

सुबह खाली पेट गुनगुना नींबू पानी पीना सेहत के लिए फायदेमंद है। लेकिन अगर आप रोज इसे काफी ज्यादा मात्रा में पी रहे हैं तो आपको कुछ बातों को ध्यान में रखना जरूरी है। नींबू में कई क्वालिटीज होती हैं लेकिन ज्यादा मात्रा में नींबू नुकसान भी कर सकता है। भोपाल एम्स के डॉ. अजय सिंह बघेल बता रहे हैं कि नींबू पानी पीते समय किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए।


SOURCE :-

जॉर्ज मेटलजन फाउंडेशन की स्टडी


Monday, 25 July 2016

♥ राज्य - राजधानी - मुख्यमंत्री - राज्यपाल ♥


(१) राज्य : अरुणाचल प्रदेश
राजधानी : इटानगर
मुख्यमंत्री : पेमा खंडू  (रा.कॉ.)
राज्यपाल : ज्योतीप्रसाद राजखोवा

(२) राज्य : आसाम
राजधानी : दिसपूर
मुख्यमंत्री : सर्वानंद सोनोवाल (भाजप)
राज्यपाल : पी.बी. आचार्य

(३) राज्य : आंध्रप्रदेश
राजधानी : हैद्राबाद (प्रस्तावित : अमरावती)
मुख्यमंत्री : एन. चंद्राबाबू नायडू (टीडीपी)
राज्यपाल : ई.एल. नरसिंहम  

(४) राज्य : बिहार
राजधानी : पाटणा
मुख्यमंत्री: नितिश कुमार (जेडीयू)
राज्यपाल : रामनाथ कोविंद

(५) राज्य : छत्तीसगड
राजधानी : नया रायपूर
मुख्यमंत्री : डॉ. रमण सिंग(भाजप)
राज्यपाल : बलराम दास टंडन

(६) राज्य : दिल्ली (कें.प्र.)
राजधानी : दिल्ली
मुख्यमंत्री : अरविंद केजरीवाल(आप)
राज्यपाल : नजिब जंग

(७) राज्य : गोवा
राजधानी : पणजी
मुख्यमंत्री : लक्ष्मीकांत पार्सेकर (भाजप)
राज्यपाल : मृदुला सिन्हा

(८) राज्य : गुजरात
राजधानी : गांधीनगर
मुख्यमंत्री : आनंदी बेन पटेल (भाजप)
राज्यपाल : ओ.पी. कोहली

(९) राज्य : हरियाणा
राजधानी : चंदिगड
मुख्यमंत्री : मनोहरलाल खट्टर (भाजप)
राज्यपाल : कप्तानसिंग सोलंकी

(१०) राज्य : हिमाचल प्रदेश
राजधानी : शिमला
मुख्यमंत्री : वीरभद्रसिंग (रा. कॉ.)
राज्यपाल : आचार्य देवव्रत

(११) राज्य : जम्मु काश्मीर
राजधानी : जम्मू, श्रीनगर 
मुख्यमंत्री: मेहबूबा मुफ्ती (पीडीपी)
राज्यपाल : एन.एन. व्होरा

(१२) राज्य : झारखंड
राजधानी : रांची
मुख्यमंत्री : रघुवर दास (भाजप)
राज्यपाल : श्रीमती द्रोपदी मुर्मू

(१३) राज्य : कर्नाटक
राजधानी : बंगलुरू  
मुख्यमंत्री : सिद्धरम्मैया (रा. कॉ.)
राज्यपाल : वजुभाई वाला

(१४) राज्य : केरळ
राजधानी : तिरूअनंतपुरम
मुख्यमंत्री : पीनाराई विजयन (माकप)
राज्यपाल : पी. सथशिवम

(१५) राज्य : मध्य प्रदेश
राजधानी : भोपाळ
मुख्यमंत्री : शिवराजसिंह चौहान ( भाजप )
राज्यपाल : राम नरेश यादव

(१६) राज्य : महाराष्ट्र
राजधानी : मुंबई
मुख्यमंत्री : देवेंद्र फडणवीस ( भाजप )
राज्यपाल : सी. विद्यासागर

(१७) राज्य : मणिपूर
राजधानी : इंफाळ
मुख्यमंत्री : ओकराम इबोबी सिंग (रा. कॉ.)
राज्यपाल : व्ही. षण्मुखानाथन

(१८) राज्य : मेघालय
राजधानी : शिलाँग
मुख्यमंत्री : मुकुल संगमा ( रा. कॉ.)
राज्यपाल : व्ही. षण्मुखनाथन

(१९) राज्य : नागालँड
राजधानी : कोहिमा
मुख्यमंत्री : टी.आर. झेलियांग (एन.पी. एफ.)
राज्यपाल : पद्मनाथ आचार्य

(२०) राज्य : मिझोराम
राजधानी : ऐजॉल
मुख्यमंत्री : पु. ललथनहवला (रा. कॉ.)
राज्यपाल : निर्भय शर्मा

(२१) राज्य : ओडिशा
राजधानी : भूवनेश्वर
मुख्यमंत्री : नवीन पटनाईक ( बीजेडी )
राज्यपाल : एस.सी.जमीर

(२२) राज्य : पॉंडिचेरी (कें.प्र.)
राजधानी : पॉंडिचेरी
मुख्यमंत्री : व्ही. नारायणसामी ( रा. कॉ.)
राज्यपाल : किरण बेदी

(२३) राज्य : पंजाब
राजधानी : चंदिगड
मुख्यमंत्री : प्रकाश सिंग बादल (अकाली दल)
राज्यपाल : कप्तानसिंग सोलंकी

(२४) राज्य : राजस्थान
राजधानी : जयपूर
मुख्यमंत्री : वसुंधरा राजे शिंदे (भाजप)
राज्यपाल : कल्याण सिंग

(२५) राज्य : सिक्किम
राजधानी : गंगटोक
मुख्यमंत्री : पवनकुमार चामलिंग (एसडीएफ)
राज्यपाल : श्रीनिवास पाटील

(२६) राज्य : तामिळनाडू
राजधानी : चेन्नई
मुख्यमंत्री : जे. जयललिता (एआयएडीएमके)
राज्यपाल : के. रोसैय्या

(२७) राज्य : तेलंगणा
राजधानी : हैदराबाद
मुख्यमंत्री : चंद्रशेखर राव (टीआरएस)
राज्यपाल : इ. एस. एल. नरसिंहन

(२८) राज्य : त्रिपुरा
राजधानी : आगरताळा
मुख्यमंत्री : माणिक सरकार (माकप)
राज्यपाल : तथागत रॉय

(२९) राज्य : उत्तरप्रदेश
राजधानी : लखनौ
मुख्यमंत्री : अखिलेश यादव (सपा)
राज्यपाल : राम नाईक

(३०) राज्य : उत्तराखंड
राजधानी : डेहराडून
मुख्यमंत्री : हरिष रावत ( रा. कॉ.)
राज्यपाल : कृष्णकांत पॉल

(३१) राज्य : पश्चिम बंगाल
राजधानी : कोलकता
मुख्यमंत्री : ममता बॅनर्जी (टीएमसी)
राज्यपाल : केसरीनाथ त्रिपाठी

Last updated : 25July 2016


Sunday, 24 July 2016

♥ आंखों के बारे में 21 अनसुने तथ्य ♥

दोस्तो, यह बताने की जरूरत नही है कि आंखे हमारे शरीर का कितना महत्वपूर्ण अंग हैं। यह आंखे ही है जिनसे हम इस रंग – बिरंगे संसार का मज़ा ले सकते हैं।

आंखो से जुड़ी कई बातें ऐसी है जो शायद आपको पहले से ना पता हों। इस पोस्ट में हम आपको आंखो से जुड़ी कुछ हैरान कर देने वाली बातें बताएंगे जो आंखो के बारे में आपका सामान्य ज्ञान बढ़ाएंगी और कुछ मनोरंजक जानकारी भी देंगी।


1. एक सामान्य मनुष्य की आंखे 1 करोड़ रंगों को पहचान सकती हैं।

2. अगर इंसान की आंख एक कैमरा होती तो उसकी क्षमता 576 Mega Pixel के बराबर होती।

3. हमारी आंखों को नियंत्रित करने वाली मासपेशियां हमारे बाकी शरीर की सभी मासपेशियों से ज्यादा एक्टिव होती हैं।

4. हमारी एक आंख में 12 लाख फाइबर होते हैं। (फाइबर एक किस्म के तंतू होते हैं)


5. हमारी हर आंख की रेटिना में करीब 12 करोड़ रोड और 70 लाख कोन होते है। रोड से कम रोशनी में देखने में सहायता मिलती है जबकि कोन से ज्यादा रोशनी में।

6. इंसान की आंखे जन्म से लेकर मृत्यु तक सदा बराबर रहती है पर उम्र बढ़ने के साथ आंखों का लैंस मोटा होता जाता है जिसके कारण सामान्यः चालीस की उम्र के बाद चश्मे की जरूरत पड़ती है।

7. हम अपने दिन के समय का 10 फीसदी हिस्सा पलक झपकने में बिता देते है जो कि पूरे दिन के आधे घंटे के बराबर है।

8. हम एक मिनट में औसतन 12 बार पलक झपकते है। इस हिसाब से हम दिन में लगभग 10 हज़ार बार और एक साल में 3.5 करोड़ बार पलक झपकते हैं।

9. पल्कों के झपकने से जुडी एक और सच्चाई यह भी है कि अगर आप पूरी जिंदगी भर का पलक झपकने का समय जोड़ेंगे तो यह एक साल से भी ज्यादा होगा।


10. प्राकृति हमारी आंखो को ऐसा बनाया है कि इस से संबंधित कोई छोटी परेशानी बहुत जल्दी दूर हो जाती है। अगर आपकी आंखो में कोई स्क्रैच हो जाए तो कार्नियां उसको दो दिन के अंदर ठीक कर देता है।

11. आंखो का कार्निया पूरे मानव शरीर का एकलौता हिस्सा है जिसमें कोई भी रक्त वाहिका नही होती। इस कारण से कार्निया को ऑक्सीज़न की जरूरत भी नही होती।

12. मनुष्यों और शार्कों के कार्निया की बनावट और गुण लगभग एक जैसे होते है। इसलिए शार्कों के कार्निया को मनुष्य के कार्निया के साथ सर्जरी करके बदला जा सकता है।


13. मनुष्य की एक आंख का वज़न मजह 8 ग्राम होता है।

14. जब तक नवजात शिशु 4 से 13 सप्ताह के ना हो जाएं तो उन्हें रोते समय आंसू नही आते । उतने समय तक रोते समय उनकी केवल आवाज़ ही आती है।

15. जिन मनुष्यों के नीली आंखे होती है वह उनमें शराब सहने की क्षमता ज्यादा होती है मतलब कि वह बाकी लोगों के मुकाबले ज्यादा शराब पी सकते हैं।

16. संसार के लगभग 4 करोड़ लोग अंधे है और लगभग इतने ही लोग आंखों से जुड़ी किसी समस्या से परेशान हैं।

17. दिमाग के बाद आंखे ही हमारे शरीर का सबसे जटिल संरचना वाला अंग हैं।


18. हमारी आंखो के ऊपर के बाल (भौं – Eyebrows) हर 64 दिन बाद बदलकर नए आ जाते हैं।

19. जब हम किसी हैरान कर देने वाली चीज़ को देखते है तो हमारी आंखे 45 प्रतीशत ज्यादा बड़ी हो जाती हैं।

20. ज्यादातर मनुष्यों की आंखें भूरी(Brown) होती हैं।

21. आंखे दिमाग की 65 प्रतीशत उर्जा का उपयोग करती है जो अन्य किसी भी अंग से ज्यादा है।


♥ समोसा ईरान से ऐसे भारत आया l ♥

आप समोसे को भले ही 'स्ट्रीट फूड' मानें लेकिन ये सिर्फ स्ट्रीट फूड नहीं है, उससे बहुत बढ़कर है l
समोसा इस बात का सबूत है कि ग्लोबलाइजेशन कोई नई चीज़ नहीं है, समोसा खाने के बाद आपको समझ जाना चाहिए कि किसी चीज़ की पहचान देश की सीमा से तय नहीं होती है l

ज्यादातर लोग मानते हैं कि समोसा एक भारतीय नमकीन पकवान है लेकिन इससे जुड़ा इतिहास कुछ और ही कहता है l

दरअसल, समोसा मीलों दूर ईरान के प्राचीन साम्राज्य से आया है l

कुछ भी हो जाए, भारतवासी खाना नहीं छोड़ेंगे !

कोई नहीं जानता कि इसे पहली बार तिकोना कब बनाया गया लेकिन इतना जरूर पता है कि इसका नाम समोसा फारसी भाषा के संबुश्क: से निकला है l

समोसे का पहली बार ज़िक्र 11वीं सदी में फारसी इतिहासकार अबुल-फज़ल बेहाक़ी की लेखनी में मिलता है l

उन्होंने ग़ज़नवी साम्राज्य के शाही दरबार में पेश की जाने वाली 'नमकीन' चीज़ का ज़िक्र किया है जिसमें कीमा और सूखे मेवे भरे होते थे l

इसे तब तक पकाया जाता था जब तक कि ये खस्ता न हो जाए लेकिन लगातार भारत आने वाले प्रवासियों की खेप ने समोसे का रूप-रंग बदल दिया l

समोसा भारत में मध्य एशिया की पहाड़ियों से गुज़रते हुए पहुंचा जिस क्षेत्र को आज अफ़ग़ानिस्तान कहते हैं l

बाहर से आने वाले इन प्रवासियों ने भारत में काफ़ी कुछ बदला और साथ ही साथ समोसे के स्वरूप में भी काफ़ी बदलाव आया l

लेकिन समय के साथ जैसे ही समोसा ताज़िकिस्तान और उज़्बेकिस्तान पहुंचा इसमें बहुत बदलाव आया. और जैसा कि भारतीय खानों के विशेषज्ञ पुष्पेश पंत बताते हैं यह 'किसानों का पकवान' बन गया l

अब यह एक ज़्यादा कैलोरी वाला पकवान बन गया है.
ख़ास तरह का इसका रूप तब भी कायम था और इसे तल कर ही बनाया जाता था लेकिन इसके अंदर इस्तेमाल होने वाले सूखे मेवे और फल की जगह बकरे या भेड़ के मीट ने ले ली थी जिसे कटे हुए प्याज और नमक के साथ मिला कर बनाया जाता था l

सदियों के बाद समोसे ने हिंदूकुश के बर्फ़ीले दर्रों से होते हुए भारतीय उपमहाद्वीप तक का सफ़र तय किया l

प्रोफ़ेसर पंत का कहना है, "मेरा मानना है कि समोसा आपको बताता है कि कैसे इस तरह के पकवान हम तक पहुंचे हैं और कैसे भारत ने उन्हें अपनी जरूरत के हिसाब से पूरी तरह से बदलकर अपना बना लिया है."

भारत में समोसे को यहां के स्वाद के हिसाब से अपनाए जाने के बाद यह दुनिया का पहला 'फ़ास्ट फूड' बन गया l

समोसे में धनिया, काली मिर्च, जीरा, अदरक और पता नहीं क्या-क्या डालकर अंतहीन बदलाव किया जाता रहा है l

इसमें भरी जानी वाली चीज़ भी बदल गई. मांस की जगह सब्जियों ने ले ली l

भारत में अभी जो समोसा खाया जा रहा है, उसकी एक और ही अलग कहानी है l

अभी भारत में आलू के साथ मिर्च और स्वादिष्ट मसाले भरकर समोसे बनाए जाते हैं. सोलहवीं सदी में पुर्तगालियों के आलू लाने के बाद समोसे में इसका इस्तेमाल शुरू हुआ l

तब से समोसे में बदलाव होता जा रहा है l भारत में आप जहां कहीं भी जाएंगे यह आपको अलग ही रूप में मौजूद मिलेगा l

अलग-अलग इलाकों में अलग-अलग तरह के समोसे मिलते हैं l यहां तक कि एक ही बाज़ार में अलग-अलग दुकानों पर मिलने वाले समोसे के स्वाद में भी अंतर होता है l

कभी-कभी यह इतना बड़ा होता है कि लगता है कि पूरा खाना एक समोसे में ही निपट जाएगा l

समय के साथ समोसा शादियों में होने वाले भोज और पार्टियों का हिस्सा तक बन गया l

मोरक्कन यात्री इब्न बतूता ने मोहम्मद बिन तुग़लक़ के दरबार में होने वाले भव्य भोज में परोसे गए समोसे का जिक्र किया है l

उन्होंने समोसे का वर्णन करते हुए लिखा है कि कीमा और मटर भरा हुआ पतली परत वाली पैस्टी थी l
पंजाब में अक्सर पनीर भरा समोसा मिलता है, वहीं दिल्ली में कई जगह उसमें काजू किशमिश डाले जाते हैंl

इन दिनों मिलने वाले सभी समोसे स्वादिष्ट हों, ऐसा भी नहीं है l

बंगाली लोग समोसे जैसी मिठाई 'लबंग लतिका' बहुत पसंद करते हैं जो कि मावे भरा मीठा समोसा होता है. दिल्ली के एक रेस्तरां में चॉकलेट भरा हुआ समोसा मिलता है l

समोसा बनाने के तरीके भी अलग-अलग होते हैं l
जो आम तौर पर समोसा है, वो अब भी भूरे रंग का होने तक तल कर ही बनाया जाता है लेकिन कभी-कभी आप कम कैलोरी वाले बेक्ड समोसे भी खा सकते हैं l

प्रोफेसर पुष्पेश पंत बताते हैं कि कुछ शेफ भाप से समोसे पकाने का भी प्रयोग करते हैं लेकिन यह एक भूल है, प्रोफ़ेसर पंत कहते हैं कि समोसे को जब तक तेल में न तला जाए उसमें स्वाद आता ही नहीं है l

और हां, यह भी बहुत साफ़ है कि समोसा का सफर भारत में ही सिर्फ ख़त्म नहीं होता है l

ब्रिटेन के लोग भी समोसा खूब चाव से खाते हैं और भारतीय प्रवासी पिछली कुछ सदियों में दुनिया में जहां कहीं भी गए अपने साथ समोसा ले गए l

इस तरह से ईरानी राजाओं के इस शाही पकवान का आज सभी देशों में लुत्फ उठाया जा रहा है l

एक बात तो तय है कि समोसा दुनिया के किसी कोने में भी बनेगा और उसमें जो कुछ भी भरा जाए उसमें आपको भारतीयता का एहसास होगा l